आईसीसी मैच फिक्सिंग को रोकने में रही नाकाम, पूर्व श्रीलंकाई कप्तान रणातुंगा का दावा

नई दिल्ली। श्रीलंका के पूर्व कप्तान अर्जुन रणातुंगा ने क्रिकेट में हो रहे भ्रष्टाचार के बारे में मीडिया को बयान देते हुए बताया कि, आईसीसी मैच फिक्सिंग और क्रिकेट करप्शन रोकने में नाकाम रही है। क्रिकेट के बाद राजनीति में शामिल हुए रणतुंगा ने बताया कि अल जजीरा ने अपनी डॉक्यूमेंट्री में जो क्रिकेट करप्शन को लेकर जो दावा किया है, क्रिकेट में भ्रष्टाचार का स्तर उससे कहीं ज्यादा ऊपर है।
मीडिया से बातचीत के दौरान श्रीलंकाई कैबिनेट मिनिस्टर ने बताया कि, ‘जो दावे किए जा रहे हैं उनकी जांच भी होनी चाहिए, क्योंकि मैच फिक्सिंग और भ्रष्टाचार का ये खेल काफी पहले से ही खेला जा रहा है। हालांकि अभी होने वाली जांचों में जांच अधिकारियों के हाथ में बड़ी मछलियां बच निकलेंगी, लेकिन छोटी मछलियों के जरिए उन्हें उन बड़ी मछलियों को भी पकड़ना होगा।’
हाल ही में अल जजीरा टीवी द्वारा किए गए स्टिंग ऑपरेशन में दिखाया गया था कि श्रीलंका के खिलाड़ी और ग्राउंड्समैन ने पिच फिक्सिंग की। इसके अलावा इस स्टिंग में यह भी दिखाया गया कि भारत बनाम इंग्लैंड और भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया के बीच हुए टेस्ट मैच के दौरान भी स्पॉट फिक्सिंग हुई थी।
रणातुंगा ने इस मामले में साफ तौर पर आईसीसी की एंटी करप्शन यूनिट पर निशाना साधते हुए कहा कि, जो श्रीलंका में हो रहा है, अगर वो नहीं देख पा रहे हैं, तो उन्हें इस पद पर होने का हक नहीं है। पूर्व कप्तान ने यह भी कहा कि अगर ग्राउंड्समैन ने पिच के साथ छेडछाड़ की है, तो ये काम उसके अकेले के बस का नहीं है, इस काम के लिए उन्हें ऊपर से मदद मिली है।
आपको बता दें कि अल-जजीरा के इस स्टिंग ऑपरेशन के बाद ही श्रीलंकाई क्रिकेट जगत में उथल-पुथल शुरू हो गई और टीम से थरिंडू मेंडिस और थरंगा इंडिका को निलंबित कर दिया गया है और मामले की जांच श्रीलंका पुलिस को सौंप दी गई है। जिसके बाद आइसीसी ने भी अल जजीरा के इस स्टिंग पर अपनी जांच शुरू कर दी है।
हालांकि अभी इस स्टिंग ऑपरेशन से कुछ भी साबित नहीं हो पाया है लेकिन इस डॉक्युमेंट्री फिल्म में दिखाई गई बातों को केवल आरोपों के तौर पर ही देखना चाहिए, लेकिन आईसीसी को ये बात भी नहीं भूलनी चाहिए कि मामला कितना चौंकाने वाला है। अब आने वाले समय में इसकी जांच में क्या सामने आता है ये ज्यादा चौंकाने वाला साबित हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*