साहब हमें नहीं मिला प्रधानमंत्री योजना का घर

बडामलहरा। साहब, हम मिट्टी के घरों में रहकर जीवन यापन कर रहे है, लेकिन हमें प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ नहीं दिया गया। प्रधानमंत्री आवास योजना से बंचित लोगों ने जनसुनवाई में जाकर नगर प्रशासन की कार्यशैली पर असंतोष जाहिर करते हुऐ एसडीएम को एक ज्ञापन दिया और आवास दिलाऐ जाने की मांग की।
लच्छू, भुमानीदीन, बब्लू, सुखलाल, छ्क्कीलाल, राजेश, सुरेश,रमेश बंसकार, जनकू, प्यारेलाल चढार,जितेंद्र, अनिलकुमार अहिरवार, परमलाल यादव सहित अनेक महिला पुरुष मंगलवार को जनसुनवाई में एसडीएम राजीव समाधिया के समक्ष पहुंचे और कहा कि, साहब हम अपने बीबी बच्चों के साथ वर्षो से मिट्टी के बने घरों में रह रहे है। इसके बावजूद हमें प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ नहीं दिया गया है। उन्होंनें सर्वे सूची पर आपत्ति जताते हुऐ कहा कि, सर्वे के दौरान पूरी तरह से लापरवाही बरती गई है। उनका आरोप है कि नगर परिषद द्वारा जारी प्रधानमंत्री आवास सूची में पात्रों को दरकिनार कर ऐसे कई नाम शामिल किऐ गए है जो पूर्णत: अपात्र है। भाजपा युवा मोर्चा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य मनोज यादव के साथ जाकर योजना से वंचित लोगों ने एसडीएम को ज्ञापन देकर आवास योजना सूची की जांच करने की मांग उठाई। श्री यादव ने नगर प्रशासन पर अनेक आरोप लगाते हुऐ कहा कि नगर परिषद ठेकेदारों को लाभ पहुंचा रही है। नगर में चल रहे अनेक विकास कार्य ठेका प्रणाली से किए जा रहे है। नगर परिषद उन्हें संस्था का ट्रैक्टर, पानी का टेंकर सहित अनेक सुविधाएं मुहैया करा रही है जो नियम के दायरे से बाहर है। समस्याग्रस्त नगरीयजन समाधान की फरियाद लेकर कार्यालय जाते है तो उन्हें दुत्कार कर दफा कर दिया जाता है।
233 हितग्राहियों एक किस्त जारी
उपयंत्री श्रीकांत खरे ने बताया कि, आगामी 2022 तक प्रधानमंत्री आवास योजना चलाई जाना है। चरणबद्ध तरीके से सभी हितग्राहियों को योजना के तहत आवास देना प्रतावित है। नगरीय क्षेत्र में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत हितग्राहियों को 2.5 लाख रुपये अनुदान स्वरूप दिए जा रहे है। पहली सूची में 339 हितग्राहियों के नाम शामिल है, 233 हितग्राहियों के खाते में 1 लाख रुपये की पहली किस्त भेजी जा चुकी है। योजना के तहत 323 वर्ग़ फुट भूखंड में आवास निर्माण किया जाना है। 9 वर्ग़ मीटर का एक हाल, 6 वर्ग़ मीटर का एक बेडरूम, सवा 2 वर्ग़ मीटर का एक रसोईघर, शौचालय और गुसलखाना निर्माण प्रस्तावित है।
इनका कहना है-
मैंने अभी पदभार सम्हाला है, सूची की पुन: जांच कराई जाऐगी। प्रत्येक पात्र हितग्राही को योजना से लाभांवित किया जाऐगा। अन्य शिकायतों पर भी गौर किया जाएगा।
-प्रदीप रिछारिया, सीएमओ नगर परिषद बडामलहरा 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*