यह कैसी कार्यवाही सीएमएचओ की मेहरबानी से फिर से खुल गये लैब और दवाखाना

नौगांव। एसडीएम और तहसीलदार की मौजदूगी में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने 18 मार्च को एक बंगाली डॉक्टर के दवाखाना सहित सात पैथालॉजी लैब पर छापामार कार्यवाही की थी। जिसके बाद खण्ड चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी द्वाराउनको नोटिस देकर लैब और दवाखाना संचालित करने वाले संबंधित दस्तावेज सात दिन के अंदर मांगे गये थे। लेकिन जब बंगाली डॉक्टर और लैब संचालकों ने दस्तावेज नहीं दिये तो खण्ड चिकित्सा अधिकारी अजय यादव ने पूरा प्रकरण मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के समक्ष भेज दिया था जिससे वह आगे की कार्यवाही करे।
नहीं था पंजीयन –
जब स्वास्थ्य विभाग की टीम ने स्टेट बैंक के सामने आवासीय मकान में छापामार कार्यवाही की थी तब उसके पास दवाखाना संचालित करने के कोई भी दस्तावेज नहीं थे। जिससे उसको नोटिस देते हुये 50 हजार की दवाईयां जप्त कर ली गयी थी साथ ही सात लैबों पर भी छापामार कार्यवाही की गयी थी। इनके भी पूरे दस्तावेज नहीं थे और न ही ऑनलाइन पंजीयन था। इसके लिये डॉ अजय यादव के पास मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने नोटिस देते हुये दस्तावेज मांगे थे लेकिन वह उनके पास नहीं थे।
नोटिस के 15 दिन बाद खुल गया दवाखाना, लैब पर होने लगी जांच –
जब मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ व्हीएस बाजपेयी द्वारा झोलाछाप डॉक्टर और लैब संचालकों को नोटिस दिया गया था। तब उनके पास ऑनलाइन पंजीयन नहीं था, बाकी दस्तावेज प्रस्तुत किये गये। लेकिन 15 दिन बाद यह लैब और दवाखाना फिर संचालित होने लगे। अगर इनके पास छापामार कार्यवाही के दौरान दस्तावेज नहीं मिले थे तो यह अवैध कहलायेंगे या फिर यह सही दस्तावेज लेकर संचालित हो रहे थे। तो 18 मार्च की छापामार कार्यवाही के दौरान इनको सील क्यों किया गया। नोटिस के बाद यह ऑनलाइन पंजीयन क्यों उपलब्ध नहीं करा पाये। यह एक बड़ा सवाल खड़ा हो रहा है।
इनका कहना है –
इन सभी पर कानूनी प्रक्रिया के तहत कार्यवाही कर दी गयी है।
-डॉ व्हीएस बाजपेयी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी छतरपुर
जिला अधिकारी द्वारा उनको कलेक्शन सेंटर और सेंपल लेने की अनुमति दी गयी है। जो लैब सील किये गये थे वह खोल दिये गये है। बंगाली डॉक्टर ने नोटिस का जवाब नहीं दिया था अगर वह फिर से खुला है तो उस कार्यवाही की जायेगी।
-डॉ अजय यादव, खण्ड चिकित्सा अधिकारी नौगांव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*