मुख्यमंत्री सपत्नीक आचार्यश्री विद्यासागर की शरण में पहुंचे शिवराज ने लिया विकसित और समृद्ध मध्य प्रदेश का आशीर्वाद


खजुराहो। प्रदेश की भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इन दिनों आगामी विधानसभा की तैयारियों में विजयश्री प्राप्त करने के लिए पूरे प्रदेश में जनआशीर्वाद यात्रा निकाल रहे है। यात्रा के तहत तय कार्यक्रम के अनुसार मुख्यमंत्री शिवराज सिंह आज सुबह 11 बजे अपनी पत्नी साधना सिंह के साथ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी खजुराहो के दिगंबर जैन मंदिर अतिशय क्षेत्र में जैन धर्मगुरु आचार्यश्री विद्यासागर महाराज की शरण में पहंचे। मुख्यमंत्री ने पत्नी सहित आचार्यश्री के चरण धोकर पूजन अर्चन करके आशीर्वाद प्राप्त किया।
आचार्यश्री का जीवन दर्शन लोगों की भलाई के लिए अमूल्य
इस मौके पर श्री चौहान ने कहा कि उन्होंने आचार्यश्री से आशीर्वाद स्वरूप प्रदेश की जनता के कल्याण के लिए सेवा का आशीर्वाद मांगा है। जिससे वह बीमारु मध्यप्रदेश से विकाशशील, समृद्ध तथा विकसित मध्यप्रदेश बना सके। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्य प्रदेश का विकास अगर वे अच्छा कर पा रहे हैं तो उसमें आचार्यश्री की ही कृपा है। हम पुनः आर्शीवाद लेने आए हैं ताकि प्रदेश को और समृद्ध एवं खुशहाल बना सकें। मुख्यमंत्री ने कहा कि आचार्यश्री विद्यासागर के दर्शन साक्षात रूप से कभी-कभी कर पाते हैं, पर उनके बताए रास्ते पर सदैव चलने का प्रयास करते हैं। उन्होंने कहा कि आचार्यश्री का जीवन दर्शन लोगों की भलाई और कल्याण के प्रकल्प अमूल्य हैं। उन्होंने कहा कि वे आचार्यश्री की पूजा-वंदना करने के बाद ही कार्य की शुरूआत करते हैं। श्री चौहान ने कहा कि आचार्यश्री की प्रेरणा से श्रमदान, वृक्षारोपण, गौ-सेवा से सार्थक जीवन के मूल्य को पाया जा सकेगा। मुख्यमंत्री ने हाथ से बनाए जाने वाले वस्त्रों को पहनने से लोगों के लिए स्वास्थ्य दृष्टि से ज्यादा उपयुक्त बताते हुए कहा कि इससे लोगों को रोजगार भी मिलेगा। उन्होंने हथकरघा उद्योग को और आगे तक बढ़ाए जाने की आवश्यकता बताई। इसके पहले मुख्यमंत्री का कार्यक्रम सुबह 8.30 बजे आचार्यश्री के प्रवचन सुनने तथा आशीर्वाद प्राप्त करने का था। लेकिन वे निर्धारित समय पर नहीं पहुंचे। हालांकि बाद में आये मुख्यमंत्री ने अपने देरी से आने का कारण रात में दो बजे ही खजुराहो में आना बताया।
आचार्य जीवदया सम्मान खजुराहो में
इस दौरान मुख्यमंत्री ने आचार्यश्री से खजुराहो में उन्हीं के सानिध्य में और चार्तुमास अवधि में आचार्य विद्यासागर जीव दया सम्मान समारोह आयोजित करने की अनुमति भी मांगी। जिसमें जीव दया के क्षेत्र में कार्य करने वाली संस्थाओं तथा व्यक्तियों को सम्मानित किया जाएगा। आचार्य श्री ने मुख्यमंत्री को सहर्ष आर्शीवाद दिया।
जीवन कम और काम बड़े-बड़े
आचार्यश्री ने अपने प्रवचन में मुख्यमंत्री के सामने कहा कि नेता समय पर नहीं आते इनके(नेता) जनता के दुख-सुख में शामिल होने पर जनता प्रसन्न हो जाती है और उसे लगता है कि उन्हें भी कोई पूंछने वाला है। आचार्यश्री ने कहा कि जनता की पूंछ-परख केवल चुनाव के समय का निमित्त नहीं है। जो इस कार्य को समझते और करते हैं इसके लिए 5 साल कम पड़ जाते हैं। क्योंकि जीवन की यात्रा में अवधि कम मिलती है और काम बड़े-बड़े होते हैं। यदि कार्य करने के भाव अच्छे होते हैं तो प्रकृति भी साथ देती है। उन्होंने मुख्यमंत्री से कहा कि इस बात का ध्यान रखो जहां केवल प्रदेश की बात करते हो वहां देश की भी बात किया करो।
श्रीफल भेंटकर लिया आशीर्वाद
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पत्नी साधना सिंह के साथ आचार्यश्री विद्यासागर के कक्ष में पहुंचकर आचार्यश्री को श्रीफल भेंटकर आर्शीवाद प्राप्त किया। मुख्यमंत्री ने प्रदेश की सुख-समृद्धि और विकास की चर्चा भी की। इसके पहले मुख्यमंत्री व उनकी पत्नी साधना सिंह ने आचार्य श्री का पाद प्रच्छालन कर गंधोधक माथे पर लगाया। अतिशय क्षेत्र खजुराहो कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष विनोद जैन ने मुख्यमंत्री को प्रशस्ति पत्र और हथकरघा से बने वस्त्र भेंट कर सम्मानित किया। सुप्रसिद्ध समाजसेवी सुशीला पाटनी ने मुख्यमंत्री की पत्नी साधना सिंह, राज्यमंत्री श्रीमती ललिता यादव और बड़ामलहरा विधायक रेखा यादव को सम्मानित किया। जैन समाज की ओर से कलेक्टर रमेश भण्डारी एवं पुलिस अधीक्षक विनीत खन्ना को भी सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में जैन समाज के लोग, जनप्रतिनिधि, अधिकारी तथा बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद थे। पुलिस तथा प्रशासनिक अधिकारियों ने मुख्यमंत्री के खजुराहो दौरे पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए थे। इसके लिए जैन मंदिर परिसर में डॉग स्क्वायड की मदद ली गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*