मंदिर की जमीन पर कब्जे का विवाद प्रशासन की तत्परता से सुलझा

छतरपुर। महल के पास ब्राह्मण समाज के गौरीशंकर मंदिर की जमीन पर रातो-रात अवैध कब्जा कर कमरा बनाए जाने से समाज के लोग भडक़ गए। ब्राह्मण समाज ने तत्काल कल रात बैठक बुलाकर सोमवार को कलेक्टर और एसपी से मिलकर विरोध की रणनीति बनाई। लेकिन मामला गंभीर होने से कलेक्टर ने तत्परता दिखाते हुए आज कब्जा हटवाकर मामले को सुलझा दिया।
जानकारी के अनुसार महलों के पास ब्राह्मण समाज के गौरीशंकर मंदिर की जमीन पर अब्दुल सलीम ने पहले दरवाजा बनाया और फिर कब्जा कर रातों-रात वहां एक कमरा भी बना लिया। ब्राह्मण समाज के लोगों को इस बात की जानकारी मिलते ही तत्काल आवश्यक बैठक बुलाई गई। बैठक में तय किया गया कि सोमवार को सुबह 11 बजे ब्राह्मण समाज का एक प्रतिनिधि मंडल कलेक्टर और एसपी से मिलकर इस मामले की शिकायत करेगा। शिकायत के बाद भी यदि प्रशासन ने कब्जा नहीं हटवाया तो अगली रणनीति तय की जाएगी। ब्राह्मण समाज के मंदिर की जमीन पर कब्जे की जानकारी मिलते ही कलेक्टर रमेश भंडारी ने संवेदनशीलता दिखाई और तत्काल ही एडीशनल एसपी जयराज कुबेर तथा कोतवाली टीआई संधीर चौधरी को मौके पर भेजकर मामले का निराकरण करने के निर्देश दिए। इस बीच ब्राह्मण समाज के प्रतिनिधि और बसपा नेता अब्दुल समीर उर्फ भैया ठेकेदार भी मौके पर पहुंच गए। मामला नाजुक होने के कारण आपसी सुलह समझौते से कब्जाधारी अब्दुल सलीम ने कब्जा छोड़ दिया जिससे मंदिर की जमीन कब्जा मुक्त हो गई। ब्राह्मण समाज ने मंदिर की जमीन सुरक्षित रखने के लिए मंदिर समिति के गठन पर विचार किया है। यह समिति के मंदिर की संपत्ति की सुरक्षा की निगरानी करेगी। मंदिर की जमीन पर कब्जे को लेकर साम्प्रदायिक सद्भाव बिगडऩे की आशंका पैदा हो गई थी। लेकिन आपस में बैठकर मामला सुलझ जाने से किसी भी तरह की अनहोनी नहीं हो सकी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*