छत्रसाल जयंती पर गद्दी पूजन के बाद निकली शोभायात्रा देर रात तक सजी रही हास्य, व्यंग्य, ओज की महफिल

छतरपुर। बुन्देल केसरी महाराजा छत्रसाल की कर्मभूमि मऊसहानियां में दो दिवसीय विरासत महोत्सव की शुरूआत शनिवार को गद्दी पूजन के साथ हुई। दोपहर 3 बजे महोत्सव समिति के अध्यक्ष गोविंद सिंह बुन्देला, विद्या भारती के प्रांतीय संगठन मंत्री डॉ. पवन तिवारी, महाराजा छत्रसाल स्मृति शोध संस्थान के अध्यक्ष भगवतशरण अग्रवाल, सचिव राधे शुक्ला, जयदेव सिंह बुन्देला ने महाराज छत्रसाल के समाधि स्थल पर पहुंचकर उन्हें  नमन करते हुए उनकी गद्दी का पूजन किया। इसके बाद शाम को शोभायात्रा निकली और रात में अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन हुआ जिसमें देर रात तक कविताओं की गूंज रही। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में राज्यमंत्री श्रीमती ललिता यादव उपस्थित थीं। अतिथियों में बिजावर विधायक गुड्डन पाठक, महाराजपुर विधायक मानवेन्द्र सिंह, कलेक्टर रमेश भण्डारी, एसपी विनीत खन्ना ने भी समारोह को गरिमा प्रदान की।
शोभायात्रा में बुन्देली परंपरा और पोषाक से सज-धज कर लोग शामिल हुए। धुबेला महल से शुरू हुई शोभायात्रा शाम 7 बजे छत्रसाल शौर्यपीठ आई जहां महाराज छत्रसाल को पुष्प समर्पित कर रात्रिकालीन कार्यक्रमों की शुरूआत हुई। अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में आए देश के जाने-माने ओज, हास्य, व्यंग्य के कवियों ने देर रात तक लोगों को बांधे रखा। यह कार्यक्रम रात 2 बजे तक चला। कार्यक्रम में समिति के सचिव सुशील वैद्य, गौरव दीक्षित उमेश रांटिया, कैलाश साहू, दीपक साहू, हरिओम साहू, पंकज यादव, शैलेश जैन, प्रमोद सक्सेना, लल्लूराम रैकवार, लक्ष्मी रैकवार की महत्वपूर्ण भूमिका रही।
छतरपुर में भी निकली शोभायात्रा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*