खनिज अधिकारी बनकर करते थे रेत के ट्रकों से वसूली युवक ने लगाया अपहरण का आरोप, पुलिस ने करा दिया समझौता

छतरपुर। बमीठा थाने के ग्राम टपरिया कुटिया निवासी कमलेश पटेल द्वारा एक फारच्यूनर कार से उसका अपहरण कर लेने के मामले में 12 घंटे तक चले नाटकीय घटनाक्रम के बाद पुलिस ने दोनों पक्षों में समझौता करा कर मामला रफा-दफा कर दिया। पता चला है कि जिन्हें अपहरण का आरोपी बताया जा रहा था दरअसल वे नकली खनिज अधिकारी बनकर रेत से लदे ट्रकों से रात में वसूली करते थे। इसी को लेकर कमलेश पटेल से विवाद हुआ था।
जानकारी के अनुसार कमलेश पटेल ने आज तडक़े करीब 3-4 बजे डायल 100 को फोन लगाकर यह बताया था कि बमीठा थाना क्षेत्र में देवगांव- झमटुली मार्ग पर एक फारच्यूनर कार में सवार 3-4 लोगों ने उसका अपहरण कर लिया और 2 लाख रूपये की फिरौती की मांग की है। जिससे डायल 100 तत्काल मौके पर पहुंच गई लेकिन वहां पर फारच्यूनर कार और उसका ड्राईवर ही मिला। जिससे पुलिस ने कार को जप्त कर ड्राईवर को हिरासत में लेकर बमीठा थाना पुलिस के हवाले कर दिया था। सुबह से शाम तक बमीठा थाना पुलिस इस मामले में चुप्पी साधे रही और कुछ भी बोलने से परहेज किया। इस दौरान छतरपुर से पहुंचे कुछ भाजपा कार्यकर्ताओं की मध्यस्थता से दोनों पक्षों के बीच समझौता करा दिया गया। भरोसेमंद सूत्रों ने बताया कि बिना नम्बर की जो फारच्यूनर कार पुलिस ने पकड़ी थी उसमें सवार होकर कुछ लोग नकली खनिज अधिकारी बनकर रात के समय रेत भरकर गुजरने वाले ट्रकों से अवैध वसूली करते थे। यह कार एक रसूखदार नेता की होने की चर्चा है। यह बात इसलिए भी सच साबित हो रही क्योंकि कथित अपहृत कमलेश पटेल खुद रेत का काम करता है। सूत्र बताते हैं कि वसूली को लेकर विवाद हो जाने पर कमलेश पटेल और फारच्यूनर में सवार लोगों के बीच झगड़ा हुआ। दोनों पक्षों के बीच मारपीट भी हुई। इस दौरान कमलेश के पक्ष के लोगों ने कार सवारों की जमकर धुनाई कर दी जिससे फारच्यूनर में सवार लोग भाग खड़े हुए केवल ड्राईवर रह गया। उसे कमलेश और उसके साथियों ने पकडक़र अपहरणकर्ता बताते हुए डायल 100 को सौंप दिया। लेकिन पुलिस मामूली विवाद बता रही है।
इनका कहना है-
किडनेपिंग का कोई मामला नहीं है। कमलेश पटेल को कार से कट मार देने पर दोनों पक्षों में विवाद हो गया था। फ़िलहाल दोनों पक्षों में समझौता हो गया है।
-दिलीप पांडेय, थाना प्रभारी, बमीठा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*